22.6 C
New York
Sunday, Jun 16, 2024
Star Media News
Breaking News
Breaking Newsगुजरातप्रदेश

 वापी में कबाड़ के 50 गोदामों को कराया गया बंद, किसी के पास नहीं मिला फायर एनओसी

स्टार मीडिया न्यूज ब्यूरो 
वापी ।  राजकोट की घटना के बाद से जिला प्रशासन के आदेश पर वापी में टीम का गठन कर सभी आवासीय, व्यावसायिक प्रतिष्ठानों में फायर सेफ्टी की जांच शुरू की गई है। जांच के दौरान ज्यादातर में फायर सेफ्टी नियमों को लेकर अनियमितता सामने आ रही है। वहीं डूंगरा के डूंगरी फलिया में नायब तहसीलदार की अगुवाई में कबाड़ के गोदामों की जांच की गई। लेकिन किसी के पास फायर सेफ्टी की एनओसी से लेकर कोई संसाधन नहीं था। इसे देखते हुए तुरंत 50 गोदामों को सील कर दिया गया। सभी गोदाम मालिकों को जरूरी मंजूरी लिए बिना फिर से शुरू करने के खिलाफ चेतावनी भी दी गई। जांच टीम ने आबादी वाले क्षेत्रों में गोदामों में ज्वलनशील कबाड़ भरे रहने के बावजूद सुरक्षा को लेकर कोई गंभीरता नहीं दिखी।  वापी में सबसे ज्यादा कबाड़ गोदाम करवड, डूंगरी फलिया, डूंगरा, बलीठा और छीरी में हैं। बलीठा और डूंगरी फलिया व करवड में ज्यादातर कबाड़ गोदाम घनी आबादी क्षेत्र में हैं।
डूंगरा और करवड में हर साल कबाड़ गोदामों में आग लगने की कई घटनाएं होती हैं। फैक्ट्रियों से लाए गए ज्वलनशील और दूषित स्क्रैप के कारण आग लगने पर आसपास के लोगों की सेहत पर गंभीर खतरा उत्पन्न हो जाता है। हर बार आग लगने पर गोदाम की आग घरों तक फैलने से रोकना दमकल कर्मियों की पहली प्राथमिकता होती है।
वर्ष 2016 में करवड में आग की भीषण घटना में ब्रिगेड कॉल घोषित करना पड़ा था। जिसके बाद तत्कालीन जिलाधिकारी ने जिला में सभी कबाड़ गोदामों के लिए जीपीसीबी, स्थानीय निकाय और फायर सेफ्टी के नियम की मंजूरी के लिए जांच का आदेश दिया था। कुछ दिन तक गहमागहमी रही लेकिन बाद में हालात जस के तस हो गए। अब फिर से जांच शुरू हुई है। जिसके बाद से कबाड़ व्यवसायियों में हडक़ंप मचा हुआ है।
फायर सेफ्टी को लेकर टीम द्वारा रोजाना अलग अलग क्षेत्रों में जांच की जा रही है। इससे पहले सभी गेम जोन और चला में आनंद मेला को बंद करवा दिया गया था। सिनेमा हाल में भी जांच की गई थी। वापी में पांच सिनेमा हाल में से तीन बंद हैं और दो चल रहे हैं। वहां जांच में फायर सेफ्टी के मानक पूरे मिले। मॉल की जांच भी की गई थी। उल्लेखनीय है कि इस जांच अभियान में अस्पतालों में जांच अति आवश्यक है। वापी में कबाड़ के गोदाम के बाद दूसरे स्थान पे अस्पतालों के संचालक है जो फायर एनओसी के मामले, सुरक्षा संशाधन मामले में कई बार चर्चा में रहे है।

Related posts

डॉ. संतोष आर. यादव ‘आयुष ग्लोबल अवार्ड 2023’ से हुए सम्मानित

starmedia news

बैंक द्वारा जप्त मालमत्ता बेचने के नाम पर करोड़ों की ठगी करने वाले आरोपी गिरफ्तार

starmedia news

आध्यात्म के मार्ग पर चलकर आधुनिक विकास हासिल करना संभव है। सत्य, अहिंसा, तपस्या और सदाचार भारत के कण-कण में है:- राष्ट्रपति श्रीमती द्रौपदी मुर्मू

starmedia news

Leave a Comment