16.6 C
New York
Saturday, May 18, 2024
Star Media News
Breaking News
Breaking Newsगुजरातप्रदेश

 प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री की वर्चुअल उपस्थिति में तथा वित्त मंत्री कनुभाई देसाई की अध्यक्षता में नारी वंदना कार्यक्रम का आयोजन

महिलाओं ने दुग्ध क्षेत्र में क्रांति ला दी है, महिला संचालित दुग्ध समितियां प्रति माह 1करोड़ से 2 करोड़ रुपए कमा रही हैं:- मंत्री कनुभाई देसाई
स्वायत्त संस्था व विधानसभा-लोकसभा में 50 प्रतिशत महिलाओं को आरक्षण मिलने से देश नई दिशा में जा रहा है:- मंत्री कनुभाई देसाई 
श्यामजी मिश्रा 
 वलसाड जिला। “विकसित भारत, विकसित गुजरात” के अंतर्गत नारी शक्ति वंदना कार्यक्रम प्रधानमंत्री नरेंद्रभाई मोदी व पाटण से मुख्यमंत्री भूपेंद्रभाई पटेल की वर्चुअल उपस्थिति में तथा वित्त, ऊर्जा व पेट्रोकेमिकल्स मंत्री कनुभाई देसाई की अध्यक्षता में वलसाड जिला प्रशासन द्वारा पारडी के कुमारशाला मैदान में आयोजित किया गया।
 नारी शक्ति वंदना कार्यक्रम में राज्य के 13 हजार से अधिक स्वयं सहायता समूहों की 1 लाख 30 हजार से अधिक महिलाओं को 250 करोड़ रुपए से अधिक की सहायता राशि का भुगतान किया गया।
इस मौके पर मंत्री कनुभाई देसाई ने कहा कि जब से नरेंद्रभाई ने गुजरात की कमान संभाली थी, तब से उन्होंने विकास की राजनीति शुरू की। पहले भाषावाद, जातिवाद और प्रांतवाद की राजनीति होती थी लेकिन प्रधानमंत्री नरेंद्र भाई मोदी ने चार जाति महिला, किसान, युवा और गरीब को महत्व दिया है। महिलाओं के सशक्तिकरण की शुरुआत नरेंद्रभाई ने महिला एवं बाल मंत्रालय की स्थापना के साथ की थी।
मंत्री ने उदाहरण देते हुए कहा कि महिलाएं हर क्षेत्र में आगे बढ़ रही हैं और आगे कहा कि दूध के क्षेत्र में गुजरात पूरे भारत में अग्रणी है। दूध के क्षेत्र में मंडलियों ने क्रांति ला दी है। जिसमें बहनों का योगदान अतुलनीय है। महिलाओं द्वारा संचालित दुग्ध समितियां प्रति माह 1 करोड़ से 2 करोड़ रुपये का चेक प्राप्त कर रही हैं।
महिलाओं के विकास के लिए आवश्यक आरक्षण के संबंध में मंत्री ने कहा कि स्वायत्त संस्था और विधानसभा-लोकसभा में महिलाओं के लिए 50 प्रतिशत आरक्षण से देश एक नई दिशा में जा रहा है। महिलाएं देश के विकास में अपना भरपूर योगदान दे रही हैं। चूंकि आजीविका के लिए किसी भी काम को करने के लिए हुनर ​​का होना जरूरी है, इसलिए सरकार भी उस दिशा में काम कर रही है। स्वयं सहायता समूह की बहनों के विकास के संबंध में मंत्री ने कहा कि प्रशिक्षण के बाद बहनों को व्यवसाय शुरू करने में भी मदद मिलती है। महिलाओं को पापड़-खाखरा-शरबत जैसी खाद्य सामग्री बनाने का प्रशिक्षण दिया जा रहा है। बहनें अमूल पार्लर, सस्ते अनाज की दुकानें और कैंटीन चलाकर जीविकोपार्जन कर रही हैं। कृषि क्षेत्र में भी महिलाएं पैर जमा रही हैं, और वे आधुनिक व नई टेक्नोलॉजी उपयोग कर खेती कर सकें, उसके लिए 7.50 लाख लखपति और ड्रोन दीदी तैयार करके महिलाओं को आजीविका प्रदान करने का सपना है।
मंत्री ने आज की किशोरी को भविष्य की मां बताते हुए कहा कि किशोरी पोषणयुक्त बने, इसके लिए नयी योजना शुरू की गयी है। जिसमें कक्षा 9 व 10 वीं की विद्यार्थियों को वार्षिक 10 हजार और कक्षा 11 व 12 वीं की छात्राओं को 15 हजार रुपये की सहायता दी जाएगी। जिसके माध्यम से पोषण के साथ-साथ शिक्षा भी प्रदान की जाएगी। दुनिया की बड़ी-बड़ी कंपनियाँ गुजरात आ रही हैं, वहीं छात्राओं को विज्ञान प्रवाह में शिक्षा मिले, इसके लिए नमो सरस्वती योजना अंतर्गत कक्षा 11 में 10 हजार व कक्षा 12 में 5 लाख रुपए तक लाभ मिलेगा। मंत्री ने कहा कि सरकार लड़कियों और युवाओं को लेकर चिंतित है और नये भारत के निर्माण के लिए उन्हें आगे ला रही है।
प्रधानमंत्री एवं मुख्यमंत्री के वर्चुअल संबोधन को बड़ी संख्या में उपस्थित महिलाओं ने देखा। वहीं नारी के महत्व को दर्शाती नारी शक्ति उत्कर्ष की डॉक्यूमेंट्री फिल्म सभी ने देखी। इसके अलावा प्रधानमंत्री ने स्वयं सहायता समूहों के लाभार्थियों से बातचीत की। मंत्री और अन्य गणमान्य व्यक्तियों द्वारा एनआरएलएम/एनयूएलएम योजना के लाभार्थियों को मंत्री जी एवं महानुभावों के हाथों नकद ऋण, रिवॉल्विंग फंड और स्टार्टअप फंड की सहायता वितरित की गई। स्वयं सहायता समूह की 3 लाभार्थी बहनों द्वारा साफ़ल्य गाथा प्रस्तुत की गई। विभिन्न विद्यालयों के छात्र एवं छात्राओं द्वारा आत्मनिर्भर भारत, देश भक्ति गीत, गरबा एवं स्वच्छता के सनेडो सहित विभिन्न सांस्कृतिक कार्यक्रम प्रस्तुत किये गये।
इस अवसर पर जिला पंचायत अध्यक्ष मनहरभाई पटेल, पारडी तालुका पंचायत अध्यक्ष दक्षेशभाई पटेल, वापी तालुका पंचायत अध्यक्ष मनोजभाई पटेल, भाजपा प्रदेश उपाध्यक्ष उषाबेन पटेल, जिला भाजपा अध्यक्ष हेमंत कंसारा, महासचिव कमलेश पटेल और शिल्पेश देसाई, जिला कलेक्टर आयुष ओक, जिला विकास अधिकारी अतिराग चपलोत, निवासी अतिरिक्त कलेक्टर अनसूया झा, पारडी प्रांत अधिकारी अंकित गोहिल, पारडी नगरपालिका अध्यक्ष बीबी भावसार, वापी नगरपालिका अध्यक्ष कश्मीराबेन शाह, पारडी तालुका विकास अधिकारी विशाल पटेल और बड़ी संख्या में महिलाएं उपस्थित थीं। स्वागत भाषण जिला ग्राम विकास एजेंसी के निदेशक एके कलसरिया ने दिया। जबकि धन्यवाद ज्ञापन पारडी प्रांत अधिकारी अंकित गोहिल ने किया। पूरे कार्यक्रम का संचालन अंबाच वाघसर प्राथमिक विद्यालय के शिक्षक जगदीशभाई पटेल और विस्तार अधिकारी वनराज सिंह परमार द्वारा किया गया।
100 से अधिक बहनों को सिलाई का प्रशिक्षण देकर आत्मनिर्भर बनाया गया:-
पारडी तालुका के तरमालिया गांव के सत्य संकल्प स्वयं सहायता समूह की कुसुमबेन तेजसभाई पटेल ने सफलता की कहानी सुनाई और कहा कि हमारी मंडली में 10 बहनें हैं। मिशन मंगलम योजना के तहत पहली बार 12 हजार रुपये रिवाल्विंग फंड मिला, उसके बाद 1 लाख रुपए और फिर 3 लाख का कैश क्रेडिट प्राप्त हुआ। जिसमें से उन्होंने 50 हजार का कर्ज लेकर किराए के मकान में 5 सिलाई मशीनें खरीदीं और महिलाओं को प्रशिक्षण देना शुरू किया और अब तक 100 से ज्यादा महिलाओं को प्रशिक्षित किया, जिससे वे आत्मनिर्भर बन गयीं हैं। मैं स्वयं वर्तमान में 10 हजार से 15 हजार रुपये की आजीविका कमा रही हूं। मैं इसके लिए सरकार को धन्यवाद देती हूं।

Related posts

वित्त मंत्री कनुभाई देसाई ने 52 करोड़ रुपये की लागत से नवनिर्मित अतुल-दिवेद रेलवे ओवरब्रिज का उद्घाटन किया।

starmedia news

मालवनी पुलिस ने 12 घंटे के भीतर किया शातिर चोर को गिरफ्तार

starmedia news

  स्वतंत्र और लोकतांत्रिक देश के नागरिक के रूप में, मतदान के अधिकार का प्रयोग अपने और देश के लिए करना चाहिए:-  जिलधिकारी क्षिप्रा आग्रे

starmedia news

Leave a Comment